हमारे बारे में-

पहल: एक नई शुरुआत नामक संस्था का गठन तो कई वर्ष पूर्व ही हो चुका था । इस संस्था ने देश के विभिन्न शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं,गरीब बच्चों तथा असहाय लोगों के जीवन को सुचारुपूर्ण संचालन में अपना सहयोग प्रदान किया। विभिन समस्याओं से जूझने के बाद भी यह संस्था हार नहीं मानी और जरूरतमंद लोगों के जीवन यापन को सुधारने में सदैव तत्पर रही। संगठन की कर्मठ और जरूरतमंद लोगों की भावनाओं से बेहद नजदीक से जुड़ी वन्दना सिंह जो पेशे से एक शिक्षिका हैं,के मजबूत इरादों और संरक्षक भारतेन्द्र त्रिपाठी के परिश्रम से इस संगठन ने 2017 में पंजीकरण कराकर एक मूर्त रूप में अपनी पहचान बनायी।

हमारा उद्देश्य

सरकारी तथा गैर सरकारी योजनाओं का जन-जन तक प्रचार एवं प्रसार करना:


1- सरकारी तथा गैर सरकारी एवं सामाजिक संस्थाओं के माध्यम से जानकारी प्राप्त कर कंधे से कंधा मिलाकर योजनाओं का प्रचार- प्रसार करना एवं मानव संसाधन मंत्रालय से संबंधित कार्यक्रमों की जानकारी देना।
2- महिला कल्याण हेतु दहेज प्रथा अंधविश्वास एवं सामाजिक कुरीतियों को दूर करने का प्रयास करना।

 

 

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण कार्यक्रमों का आयोजन

 

1- स्वास्थ्य मिशन योजनाओं के शिविर का आयोजन करना एवं चिकित्सा व्यवस्था उपलब्ध करवाना। जनहित के मुद्दों को कार्यपालिका के उच्च अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत एवं उच्च न्यायालय सर्वोच्च न्यायालय में जनहित याचिका, दायर करने के लिए तथा पुलिस कानून व्यवस्था में मदद एवं सुझाव के लिए जागरुक करना।
2- परिवार कल्याण कार्यक्रम एवं स्वास्थ्य कार्यक्रमों को गांवों में व्यापक स्तर पर नि:शुल्क संचालित करना। टीकाकरण जैसे पल्स पोलियो, हेपेटाइटिस, फाइलेरिया ,मलेरिया ,क्षय रोग, एक कैंसर TV धर्मार्थ डिस्पेंसरी कुछ क्षेत्रीय बीमारियों के रोकथाम के लिए प्रचार व प्रसार करना व जानकारी देना तथा नि:शुल्क दवाओं का वितरण करवा करना व प्रदेश के विभिन्न जनपदों में नि:शुल्क चिकित्सालयों की स्थापना में मदद करना तथा मानव कल्याण हेतु हर प्रकार की निशुल्क चिकित्सा स्वास्थ्य संबंधी कार्यक्रमों का प्रचार प्रसार नि:शुल्क करना व रेडक्रास सोसायटी की योजनाओं के साथ कंधे से कंधा मिलाकर जनसाधारण को जानकारी मुहैया करना तथा होम्योपैथिक आयुर्वेदिक एलोपैथिक से संबंधित दवाओं एवं जानकारियों का नि:शुल्क सुविधा मुहैया कराना।

 

 

शिक्षा के समग्र विकास हेतु कार्यक्रम संपादित करना

 

1- संस्था के माध्यम से शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों में बच्चों का नामांकन करना,उनके लिए शिक्षण से संबंधित आवश्यक संसाधन(कॉपी,किताब,पेंसिल,कलम) आदि निःशुल्क उपलब्ध कराना, आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों की फ़ीस के रूप में सहयोग करना, अभिभावकों को शिक्षा के प्रति जागरूक करना इत्यादि।
2- समाज केअल्पसंख्यक,पिछड़े, अनुसूचित जाति ,अनुसूचित जनजाति व सामान्य वर्ग की बालक, बालिकाओं हेतु प्रशिक्षण जैसे कंप्यूटर प्रशिक्षण ,तकनीकी व इंजीनियरिंग प्रशिक्षण, इलेक्ट्रॉनिक इलेक्ट्रिकल, हार्डवेयर,सॉफ्टवेयर स्क्रीन, प्रिंटिंग डाटा, प्रोसेसिंग डीटीपी, सिलाई ,कढ़ाई, बुनाई, पेंटिंग, जल संरक्षण, वैक्सीन कला, गृह सज्जा ,आचार मुरब्बा ,माचिस पत्तल ,अगरबत्ती ,मसाला ब्यूटीपार्लर, इत्यादि लघु उद्योग की जानकारी देकर स्वावलंबी बनाना।
3- समस्त विश्व को एक सूत्र में पिरोने का कार्य करना। नाट्यमंच व चलचित्र द्वारा लोगों को शिक्षा के बारे में नि:शुल्क ज्ञान करवाना।
4- समाज को साक्षर बनाने के लिए सर्वशिक्षा की गारंटी योजना, शिक्षा के कार्यक्रमों का प्रचार व प्रसार करना ।
5- संस्था के माध्यम से प्राकृतिक शिक्षा की व्यवस्था करना जिसके माध्यम से छात्र जीविका निर्वाह की समस्या का स्वतः समाधान कर सकें ।
6- विकलांग बालक एवं बालिकाओं के लिए शिक्षा का प्रबंध करना। उन्हें नि:शुल्क मूलभूत सुविधाएं प्रदान करवाना।
7- संस्था के माध्यम से सामान्य दलित एवं पिछड़ी जाति, अनुसूचित जाति, जनजाति अल्पसंख्यक, बालक/बालिकाओं के लिए शिक्षा/तकनीकी शिक्षा का प्रबंध करना।

 

 

 

 

 

पर्यावरण संरक्षण

 

1.संस्था के माध्यम से गाँव तथा शहरों के नागरिकों में पर्यावरण के प्रति लोगों को जागरूक करना।
2-विद्यालयों में पर्यावरण संरक्षण के कार्यक्रमों के माध्यम से छात्र छात्राओं को पर्यावरण के महत्व से अवगत कराना।